एमपी लाडली लक्ष्मी योजना 2021 का उद्देश्य

एमपी लाडली लक्ष्मी योजना 2021 का उद्देश्य (MP Ladli Laxmi Yojana Purpose)

जैसे की आप जानते हैं, इनमें से कई परिवार ऐसे हैं जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं, अपनी बेटियों को उच्च शिक्षा प्रदान करने में असमर्थ हैं और अपनी शादी के लिए धन नहीं जुटा सकते । कई लोग लड़के और लड़कियों में भी फर्क करते हैं और इन सब समस्याओं के आलोक में लाडली लक्ष्मी योजना की राज्य सरकार ने 2021 में शुरू की। इस योजना के तहत बेटी की शिक्षा और शादी के लिए आर्थिक मदद देना। इस योजना के तहत मध्यप्रदेश के नागरिकों की नकारात्मक सोच को बदलें और बच्चे के भविष्य को उज्ज्वल बनाएं। लड़की इन फंड्स का इस्तेमाल हायर एजुकेशन या शादी के लिए कर सकती है। मध्य प्रदेश में महिलाओं और पुरुषों के बीच लिंग अनुपात को कम करना और राज्य में महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना है। 

मध्य प्रदेश लाडली लक्ष्मी योजना का कार्यान्वयन

जिला स्तर पर –

इस योजना को जिला स्तर पर जिला कार्यक्रम अधिकारी द्वारा कार्यान्वयन किया जाएगा । इस कार्यक्रम की नोडल एजेंसी महिला एवं बाल विकास विभाग है। इसी कारण से रिपोर्ट तैयार की जाएगी और योजना से संबंधित सभी मामलों का मूल्यांकन किया जाएगा। तैयार रिपोर्ट कलेक्टर को प्रस्तुत की जानी चाहिए । रिपोर्ट मिलते ही रिपोर्ट की जांच की जाएगी। रिपोर्ट में किसी भी तरह की त्रुटि को ठीक किया जाएगा। इस व्यवस्था का लाभ लाभार्थी को मिलेगा।

संभाग स्तर पर –

समय-समय पर इस योजना की जानकारी महिला एवं बाल विकास विभाग की प्रमुख, जिला कार्यक्रम अधिकारी, संभाग के संयुक्त निदेशक और बाल विकास परियोजना अधिकारी द्वारा विभिन्न प्रकार के अभिलेखों के माध्यम से उपलब्ध कराई जाएगी। इसका सत्यापन विभाग द्वारा किया जाएगा। यदि अभिलेखों में कोई कमी पाई जाती है तो इस मामले में सुधारात्मक कार्रवाई की जाएगी।

राज्य स्तर पर –

यदि इस योजना को लागू करने में कोई देरी होती है तो विभाग के मुखिया अपनी सिफारिश राज्य सरकार को भेजेंगे ताकि देरी को दूर किया जा सके। राज्य स्तर पर इस कार्यक्रम के क्रियान्वयन में किसी तरह का विवाद होने की स्थिति में विभागाध्यक्ष, महिला एवं बाल विकास विभाग का निर्णय अंतिम होता है।

मध्य प्रदेश लाडली लक्ष्मी योजना जनवरी अपडेट

इस योजना के जरिए सरकार ने देश की लड़कियों के भविष्य को उज्ज्वल बनाने का लक्ष्य रखा है। इस योजना के तहत लाभार्थी को 1 लाख 18 हजार रूपए का प्रमाण पत्र प्रदान किया जाता है और 6,000-6,000 (कुल 30,000) को लगातार 5 वर्षों के लिए लाडली लक्ष्मी कोष में स्थानांतरित किया जाएगा, जो किश्तों में प्रदान किया जाता है। महिला एवं बाल विकास विभाग ने कक्षा 6 में प्रवेश पर 2,000 रूपए प्रदान किए, अध्याय 9 में प्रवेश पर 4,000 रूपए, अध्याय 11 में प्रवेश पर 6,000 रूपए और अध्याय 12 में प्रवेश पर 6,000 रूपए, और लड़की ने 21 की आयु पूरी की तो उसकी शादी के लिए 100,000 भारतीय रुपये की राशि का प्रावधान किया गया है। ई भुगतान के माध्यम से इस प्रणाली के तहत लाभ की राशि प्रदान की जाती है।

लाडली लक्ष्मी योजना में अब तक किये गए आवेदन

मध्य प्रदेश लाडली लक्ष्मी योजना 2007 में शुरू की गई थी। दिसंबर 2020 तक इस योजना के तहत कुल 37 लाख 63 हजार 735 लड़कियों द्वारा आवेदन किया गया था। 2020-21 में मध्य प्रदेश लाडले लक्ष्मी युगना में 2 लाख 28 हजार 283 लड़कियां पंजीकृत थीं। इस योजना के तहत कक्षा 6, 9 और 11 में प्रवेश लेने वाली 53 हजार 917 छात्राओं को छात्रवृत्ति के रूप में 39.06 करोड़ रुपये की पेशकश की गई थी। अब मध्यप्रदेश लाडली लक्ष्मी योजना के तहत आवेदन ऑनलाइन किया जा सकता है। इसके अलावा इंटरनेट कैफे, आंगनबाड़ी फैक्टर के माध्यम से भी इस योजना के तहत आवेदन किया जा सकता है।

लाड़ली लक्ष्मी योजना

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिव राज सिंह चौहान जी ने भोपाल के मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में आयोजित स्वतंत्रता दिवस के लिए राज्य स्तर पर राष्ट्रीय ध्वज उठाया। मध्यप्रदेश में लाडली लक्ष्मी योजना के तहत 78,000 से अधिक इलेक्ट्रॉनिक प्रमाण पत्र जारी किए गए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्य में कोई भी सरकारी कार्यक्रम अब लड़कियों की पूजा करना शुरू किया जायेगा।

Also Check:

एमपी लाडली लक्ष्मी योजना छात्रवृति (MP Ladli Laxmi Yojana Scholarship)

1 thought on “एमपी लाडली लक्ष्मी योजना 2021 का उद्देश्य”

  1. Pingback: MP Ladli Laxmi Scheme 2021 के लाभ - Hindii.net

Leave a Comment

Your email address will not be published.

instagram volgers kopen volgers kopen buy windows 10 pro buy windows 11 pro